बिहारी लाला के सब पर भारी पड़ने के 11 कारण



एक बिहारी सब पे भारी

दो बिहारी दो सौ पर भारी

तीन बिहारी यूनियन हमारी

चार बिहारी सरकार की तैयारी…

ये जुमला बिहारियों के लिए काफी समय से प्रयोग किया जाता रहा है। आइए आज जानते हैं इसके कारण-

1. हम… हम हैं, बाकी सब पानी कम है

Source

2. जिया हो बिहार के लाला

ये गाना हर बिहारियों को बहुत ही अच्छी तरह परिभाषित करता है। इनका बोलने का, गाने का, डांस करने का, पढ़ने का, खाने का, चलने का… हर चीज का अंदाज अलग ही होता है। 

3. लिट्टी-चोखा

दुनिया के सारे लजीज़ व्यंजन एक तरफ और बिहारियों का लिट्टी-चोखा एक तरफ। नाम जितना अजीब है, स्वाद उतना ही कमाल का है। लिट्टी-चोखा अापको भारत के हर हिस्सों और राज्यों में मिल जाएगा, जिसे लोग उंगलियां चाट-चाट कर खाते हैं।

Source

4. काफी मेहनती होते हैं

Source

5. मिस्टर बिहारी बाबू

हर बिहारी, बाबू बनने का ही सपना देखता है। बाबू मतलब अधिकारी बाबू, जिसके लिए यूपीएससी की तैयारी करते हुए आपको एक न एक बिहारी जरूर मिल जाएगा।

Source

6. हंसते-हंसते, कट जाये रास्ते

बिहारी से आपकी मुलाकात घर से निकलते ही ट्रेन में हो जाएगी। भारतीय रेलवे एक एेसी जगह है जहां आपको एक न एक बिहारी जरूर मिल जाता है और आपका ट्रेन का रस्ता हंसते-हंसते कट जाता है।

7. मजाकिया अंदाज

आपको दुखी नहीं होने देंगे।

8. तिथीज्ञाता

इनसे बड़ा तिथीज्ञाता आपको आज के जमाने में कहीं नहीं मिलेगा। इतिहास के तारीख और भूगोल का मेप इनको मुंहजुबानी याद रहता है।

9. ये हैं तो क्या गम हैं

किसी झगड़े में फंस गए हैं और साथ में दोस्तों का ग्रुप नहीं है तो डर लगना लाजिमी है। लेकिन डरने की क्या बात है, जब साथ में हो बिहारी बाबू। 

10. इनका अंदाज है निराला

11. भैया आज छठ है ना!

छठ पर्व, जो राष्ट्रीय पर्व की तरह ही मनाया जाता है। इसकी आस्था हर पर्व से कहीं अधिक है। यह पर्व हमेशा नेशनल न्यूज का हिस्सा बनता है जो कि केवल बिहारियों द्वारा ही पहले अधिक मनाया जाता था। 

Source

तो अब तो समझ सकते हैं न कि बिहारी कैसे सब पर भारी होते हैं।

 

 

 





Add a Comment

comments

Related Articles

More Articles