11 लाइनें जो केवल गर्मी के मौसम की कड़क गर्मी में सुनने को मिलती हैं



कितनी गर्मी है बॉस… यही एक लाइन, कड़क गर्मी में तड़प रहे इंसान की बेचैनी को बयां कर देती है। एेसे ही 11 लाइनें जो इंसान गर्मी से परेशान होकर गर्मी में बोलता है और सूर्य देवता से थोड़ी रहम की उम्मीद करता है।

1. पानी…पानी…पानी

Source

2. क्या थोड़ा और पानी मिलेगा

Source

3. एक बार और नहा लेता हूं

Source

4. मेरे साथ तुम भी नहा लो

Source

5. इस गर्मी ने दिमाग खराब कर के रखा है

Source

6. सूर्य भगवान जी कुछ तो रहम करो

Source

7. इतनी गर्मी में तो मेरा दिमाग फट जाएगा

Source

8. एेसा लग रहा है आसमान से आग बरस रही है

Source

9. बारिश कब होगी

Source

10. थोड़ी सी हवा चल जाती तो राहत मिलती

Source

11. अब तो केवल इंतजार है मानसून की पहली बारिश का

Source

ये तो रही मेरी लाइनें। इन के अलावा भी अगर आप कुछ बोलते हैं तो हमें जरूर बताएं।





Add a Comment

comments

More Articles